*जो बाग़ी न हो वो ईश्क़ नहीं*

वेलेंटाइन स्पेशल————– प्यार के साथ विद्रोह ऐसे ही जुड़ा है जैसे दिन के साथ उजाला, रात के साथ अंधेरा। जो बाग़ी न हो वो ईश्क नहीं है। जो दुनिया से डर जाए वो ईश्क नहीं है। जो जंजीरों में बंध जाए वो ईश्क नहीं है। जावेद अख्तर कहते हैं कि अब अगर आओ तो जाने […]